Jeewan Ka Sab Bhaar Tumhare Hathon Mein – Hindi Bhajan

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

मेरा निश्चय बस एक यही इक बार तुम्हे  पा जाऊँ मै

अर्पण कर दू जीवन भार का सब प्यार तुम्हारे हाथों में       1

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

यदि मानुष का मुझे जन्म मिले तो प्रभु चरणों का पुजारी बनूँ,

मुझ सेवक की इक-इक रग का हो तार तुम्हारे हाथों में .     2

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

जब जब संसार का कैदी बनूँ  निष्काम भाव से कर्म करूँ

फिर अंत समय में प्राण तजूं  भगवान तुम्हारे हाथों में       3

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

मुझ में तुझ में है बस भेद यही, मै नर हूँ तुम नारायण हो

मै हूँ संसार के हाथों में संसार तुम्हारे  हाथों में,            4

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

हम तुमको कभी नहीं भजते फिर भी तुम हमें नहीं तजते,

अपकार हमारे हाथों में उपकार तुम्हारे हाथों में ,

उद्हार पतन अब मेरा है भगवान तुम्हारे हाथों में          5

अब सौप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथों में

है जीत तुम्हारे हाथों में ओर हार तुम्हारे हाथों में

One thought on “Jeewan Ka Sab Bhaar Tumhare Hathon Mein – Hindi Bhajan

  • Jan 25, 2016 at 4:58 pm
    Permalink

    Jai shree krishna , let we join right path of bhakti

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *