Mahaprabhu & Radha Krishna Lila Samaran – Sripad Nivasacharya

लीला स्मरण – श्री निवासचार्य

लीला स्मरण में श्री निवास का असाधारण अभिनिवेश था| श्री गोपाल भट्ट गोस्वामी , जो की श्री निवासचार्य के गुरु थे, एक एक दिन में एक एक लीला में डूबकर उसका प्रत्यक्ष दर्शन करते| एक दिन गौड़ लीला में प्रवेश कर उन्होंने देखा कि वे सुगन्धित तेल , माला, चन्दन आदि से महाप्रभु की सेवा कर उनके पास खड़े, चामर ढुला रहे हैं|

chaitanya mahaprabhu mahaprabhu

उसी समय महाप्रभु के इंगित दूसरे सेवक ने उनके गले से माला उतार कर श्री निवास को पहना दी| ध्यान भंग होने पर उन्होंने देखा कि वही माला श्री निवास के गले में लटकी है|

एक दिन बसंत के अवसर पर श्री निवासाचार्य ब्रज लीला का ध्यान कर रहे थे| ब्रज लीला का ध्यान करते-करते मंजरी रूप से ब्रज गोपियों के साथ श्री कृष्ण की होली लीला में प्रवेश कर गए|

1159_radha-krishna-holi-wallpaper

उन्होंने देखा कि होली खेलते खेलते राधा रानी के हाथ का गुलाल ख़तम हो गया है| उसी समय उन्होंने गुलाल लाकर उन्हें दे दिया| ध्यान भंग होने पर होली के चिह्न अपने वस्त्रादि पर देखकर वे चकित हुए कि उनका सर्वांग होली के रंग से रंगा हुआ है|

जय जय श्री राधे||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *